बैडमिंटन पर निबंध

Essay on Badminton in Hindi

बैडमिंटन पर निबंध : Essay on Badminton in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘बैडमिंटन पर निबंध’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप बैडमिंटन पर निबंध से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

बैडमिंटन पर निबंध : Essay on Badminton in Hindi

प्रस्तावना:-

खेल हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। बचपन में खेलकूद हमारे लिए अत्यंत आवश्यक है। खेल दो प्रकार के होते है, एक घर के अंदर के खेल व दूसरे घर के बाहर के खेल।

वर्तमान समय में कईं प्रकार के खेल होते है, जिन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेला जाता है। इन्हीं में से एक बैडमिंटन का खेल है। यह दो व्यक्तियों द्वारा खेला जाता है।

यह एक बाहर खेला जाने वाला खेल है, लेकिन इसके लिए किसी मैदान की आवश्यकता नहीं होती है। यह कम जगह पर भी खेला जा सकता है।

बैडमिंटन का इतिहास:-

बैडमिंटन की शुरुआत 19वीं सदी में हुई थी। इस खेल की शुरुआत सन 1873 में ग्लूस्टरशायर स्थित ब्यूफोर्ट के ड्यूक के स्वामित्व वाले बैडमिंटन हाउस में हुई थी।

इस खेल को बैडमिंटन का खेल ही कहा जाता था। सन 1887 तक इस खेल को समान्य नियमों द्वारा ही खेला जाता था, लेकिन सन 1887 में इसके लिए कुछ बुनियादी नियम बनाए गए।

सन 1893 में इंग्लैंड के डनबर भवन में बैडमिंटन को आधिकारिक रूप से शुरू किया गया। इस खेल का आविष्कार ब्रिटिश-भारत में माना जाता है।

कहा जाता है कि एक ब्रिटिश सैनिक द्वारा इसका सर्जन किया गया था। प्रारम्भ में वह बल्ले से ऊन के गोले को एक-दूसरे के पास फेंका करते थे।

बैडमिंटन के नियम:-

प्रत्येक खेल को खेलने के कुछ नियम होते है, जिनका पालन करते हुए खिलाड़ी को वह खेल खेलना पड़ता है। इसी प्रकार बैडमिंटन को खेलने के भी कुछ नियम है, जो कि निम्नलिखित है:-

  • बैडमिंटन खेल को 1-1 या 2-2 खिलाड़ियों के बीच में खेला जाता है। इसमें खिलाड़ी दो अलग-अलग छोर में होते है।
  • खिलाड़ियों में बीच में नेट लगाया जाता है, जिसके दोनों तरफ से खिलाड़ी खेलते है।
  • इस खेल को बैडमिंटन और चिड़ी से खेला जाता है।
  • इस खेल में कुल मिलकर 21 अंक होते है, उसके बाद खेल ख़त्म हो जाता है।
  • इसमें खिलाड़ी बैडमिंटन की सहायता से चिड़ी को दूसरे खिलाड़ी की तरफ फेंकता है और इसी तरह खेल चलता रहता है। लेकिन, यदि कोई खिलाड़ी उस चिड़ी को गिरा देता है या मार नहीं पाता है, तो दूसरे खिलाडी को एक अंक प्राप्त हो जाता है।
  • यदि कोई खिलाड़ी बीच में लगे नेट में चिड़ी को मार देता है, तो भी समाने वाले खिलाड़ी को ही इसका एक अंक प्राप्त होता है।
  • एक मैच को तीन भागों में विभाजित किया जाता है।
  • इस खेल को 29 अंक तक भी खेला जा सकता है, जिसे स्वर्ण अंक कहा जाता है, जिसे प्राप्त करने वाला खिलाडी विजेता माना जाता है।
  • यह खेल सामान्य नियम वाला खेल ही होता है। अंत में ज्यादा अंकल वाला खिलाड़ी इस खेल को जीत जाता है।

बैडमिंटन प्रतियोगिताएँ :-
बैडमिंटन की भी अन्य खेलों की भांति प्रतियोगिताएँ होती है। यें प्रतियोगिताएँ राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर होती है, जो कि निम्नलिखित है:-

  • बैडमिंटन विश्व कप
  • एशियाई बैडमिंटन प्रतियोगिता
  • इंडिया ओपेन सुपर सीरीज़
  • चाईनीज़ ताईपे ओपेन
  • उबर कप
  • डेनमार्क ओपेन
  • बीडब्ल्युएफ ग्रैंड प्रिक्स गोल्ड व ग्रैंड प्रिक्स
  • बीडब्ल्युएफ सुपर सीरीज़ मास्टर्स फाइनल्स
  • मलेशिया ओपेन (बैडमिंटन)
  • विश्व कनिष्ठ बैडमिंटन प्रतियोगिता

उपसंहार:-

बैडमिंटन खेल एक दिलचस्प खेल है, जिसे लोग अपने मनोरंजन के लिए खेलते है। इसके लिए खिलाड़ी नेट के दोनों तरफ खड़े होकर एक-दूसरे पर बैडमिंटन की सहायता से चिड़ी फेंककर खेलते है।

बैडमिंटन खेल लोकप्रिय खेलों में से एक है, जिसे लोग देखना व खेलना पसंद करते है। खेल हम सभी के लिए आवश्यक होते है, खेल खेलने से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है।

खेल खेलने से व्यक्ति का शारीरिक व मानसिक विकास होता है। इसलिए, हमें रोजाना कोई न कोई खेल खेलना चाहिए। इससे हम स्वस्थ और तंदुरुस्त रहेंगे।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *