चुनाव पर निबंध

Essay on Election in Hindi

चुनाव पर निबंध : Essay on Election in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘चुनाव पर निबंध’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है

यदि आप चुनाव पर निबंध से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

चुनाव पर निबंध : Essay on Election in Hindi

प्रस्तावना:-

चुनाव लोकतान्त्रिक देश में सरकार चुनने की एक प्रक्रिया है, जिसके द्वारा ही जनता अपना प्रतिनिधि का चुनाव करती है। चुनाव लोकतंत्र में एक निर्वाचन प्रक्रिया होती है, जो एक लोकतान्त्रिक देश का महत्वपूर्ण हिस्सा होती है।

चुनाव एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है, जिसके द्वारा ही जनता एक योग्य व्यक्ति का चुनाव करके सत्ता उसके हाथों में सौंपती है। इसमें केवल एक व्यक्ति को सीधे ही नहीं चुना जाता है बल्कि, इसकी एक लम्बी प्रक्रिया होती है।

हर देश मे अलग-अलग समय अंतराल में चुनाव होते है। भारत में चुनाव प्रत्येक 5 वर्ष के अंतराल में ही होते है। चुनाव किसी भी लोकतांत्रिक देश मे होना अतिआवश्यक है। यह लोकतंत्र को प्रदर्शित करता है।

चुनाव के लिए आवश्यक बातें:-

चुनाव में वोट देने के लिए कुछ बातें आवश्यक होती है, जिसके आधार पर ही आप चुनाव में हिस्सा ले सकते है:-

  • चुनाव में वोट देने के लिए आपके पास उस देश या राज्य की नागरिकता होनी चाहिए, जिसमें चुनाव हो रहे है।
  • चुनाव में वोट देने के लिए आपकी आयु 18 वर्ष से ऊपर होनी चाहिए।
  • चुनाव में वोट देने के लिए आपका वोटर आईडी कार्ड होना चाहिए।

चुनाव का महत्व:-

एक लोकतान्त्रिक देश में चुनाव एक मत्वपूर्ण प्रक्रिया है। एक देश में चुनाव होना उस देश के लोकतंत्र को प्रदर्शित करता है।

इसके होने से एक व्यक्ति अपनी पसंद के हिसाब से अपने देश का प्रधान चुन सकता है। इससे राजतंत्र ख़त्म होता है।

देश में किसी भी निर्णय के लिए सभी लोग प्रत्यक्ष रूप से हिस्सा नहीं ले पाते है। इसीलिए, चुनाव करना महत्वपूर्ण होता है ताकि, जनता किसी भी व्यक्ति को अपना प्रतिनिधि बनाकर उस निर्णय में अप्रत्यक्ष रूप से हिस्सा ले सके।

उपसंहार:-

भारत एक लोकतान्त्रिक देश है, जिसमें चुनाव होना एक निर्वाचन प्रक्रिया है। इन चुनावों का निर्धारण चुनाव आयोग द्वारा किया जाता है।

इसकी पूरी प्रक्रिया के बाद ही योग्य व्यक्तियों को चुना जाता है, जो जनता के प्रतिनधि बनकर अपनी बात रखते है और देश के शासन व प्रशासन में प्रत्यक्ष रूप से भाग लेते है।

चुनाव का मुख्य हिस्सा जनता ही होती है, उनके बिना चुनाव का कोई महत्व नहीं है। सिर्फ लोकतांत्रिक देशों में ही चुनाव नहीं होता है। कईं गैर-लोकतान्त्रिक देशों में भी चुनाव होते है, जो बिल्कुल लोकतान्त्रिक देश की तरह ही होते है।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.