जंगल पर निबंध

Essay on Forest in Hindi

जंगल पर निबंध : Essay on Forest in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘जंगल पर निबंध’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप जंगल पर निबंध से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

जंगल पर निबंध : Essay on Forest in Hindi

प्रस्तावना:-

जंगल वह जगह होती है, जहाँ विभिन्न प्रजाति के पेड़-पौधे बड़ी संख्या में पाए जाते है। जंगल सभी जंगली जीव-जन्तुओं का घर होता है।

यहाँ विभिन्न प्रजाति के जानवर, पक्षी और पेड़-पौधे निवास करते है। जंगल इन सभी जीवों को घर प्रदान करती है।

जंगल हमारी बहुत सी आधारभूत आवश्यकताओं की पूर्ति करता है। जंगल के बिना सभी जीवों का जीवन असम्भव है। जंगल इस प्रकृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

जंगल का महत्व:-

जंगल से हमें ऑक्सीजन प्राप्त होती है। जंगल कार्बन-डाई-ऑक्साइड ग्रहण करके ऑक्सीजन छोड़ते है। जिससे इस प्रकृति में ऑक्सीजन और कार्बन-डाइ-ऑक्साइड के बीच में संतुलन बना रहता है।

जंगल और भी कईं तरह की ग्रीन हाउस गैसों को ग्रहण करके प्रकृति का संतुलन बनाए रखता है। वनों के होने से वर्षा की मात्रा भी ठीक रहती है और जंगलों के आसपास कभी भी सूखा नही पड़ता है।

एक साथ बड़ी मात्रा में पेड़-पौधे मिट्टी के कटाव को रोकते है। जंगलों के होने से वातावरण भी ठंडा रहता है।
वनों के होने से प्रकृति में प्रदूषण भी कम होता है।

यह वातावरण में संतुलन बनाए रखने का कार्य करता है। यह सभी जंगली जानवरों व पक्षियों को घर प्रदान करता है। जंगलों में कईं तरह के जीव-जंतु रहते है।

इन जीव-जन्तुओं का पोषण भी इन जंगलों से ही होता है। जंगलों से कईं लोग अपना जीवनयापन करते है। वह इसी से ही अपना भोजन भी प्राप्त करते है और कईं मौकों पर अपनी आजीविका भी यहीं से चलाते है।

जंगलों से हमें लकड़ी भी प्राप्त होती है, जिससे आज विभिन्न प्रकार की वस्तुएँ बनाई जाती है, जो काफी आवश्यक है।

जंगल के बिना नुकसान:-

  • यदि जंगल नहीं होंगे तो वर्षा भी समय पर नहीं होगी, जिससे सूखा पड़ने का खतरा बढ़ जाएगा।
  • जंगल या पेड़-पौधे न होने से बाढ़ का खतरा भी बढ़ जाता है।
  • पेड़-पौधों के न होने से वातावरण में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है और कार्बन-डाई-ऑक्साइड की मात्रा
  • बढ़ जाती है, जो जीव-जन्तुओं के लिए खतरनाक है। बिना पेड़-पौधों के प्रदूषण भी बढ़ता है।
  • यदि पेड़-पौधे या जंगल नहीं होंगे तो पानी की कमी भी होगी।
  • जंगली जानवरों का घर छीन जाता है, जिससे वें बेघर होकर इंसानी बस्तियों में आने लगते है।

जंगल के बचाव के उपाय:-

  • हमें जंगलों को बचाने के लिए आवश्यक कदम उठाने चाहिए। तभी हम इस प्रकृति और सभी जीव-जन्तुओं को बचा सकते है।
  • हमें अधिक से अधिक पेड़-पौधे लगाने चाहिए।
  • हमें जंगलों में आग नहीं लगानी चाहिए। यदि गलती से लग जाए तो उसे जल्दी से जल्दी बुझाने का प्रयास करना चाहिए।
  • हमें लगातार हो रही वनों की कटाई को रोकने की जरूरत है, वरना एक समय ऐसा होगा जब बहुत कम पेड़-पौधे रह जाएंगे।
  • हमें सभी लोगों को पेड़-पौधों के प्रति जागरूक करना चाहिए और उन्हें पेड़-पौधे लगाने के लिए प्रोत्सहित करना चाहिए।

उपसंहार:-

यें वन हम सभी को जीवन प्रदान करते है। इसके बदले हम सभी का फर्ज बनता है कि हम जंगल का ध्यान रखें और पेड़-पौधों को नुकसान न पहुँचाये।

जितने हो सके, उतने पेड़-पौधे लगाएं। यह हम सभी के लिए वरदान की तरह है। यह हमारे लिए एक धरोहर है, जिसका हमें अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए ध्यान रखना होगा।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

4.7/5 - (3 votes)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.