हॉकी पर निबंध

Essay on Hockey in Hindi

हॉकी पर निबंध : Essay on Hockey in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘हॉकी पर निबंध’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप हॉकी पर निबंध से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

हॉकी पर निबंध : Essay on Hockey in Hindi

प्रस्तावना:-

खेल मनुष्य के लिए बहुत ही आवश्यक होते है। खेल के माध्यम से मनुष्य का शारीरिक व मानसिक विकास बहुत तीव्र गति से होता है।

खेल खेलने से मन का तनाव भी दूर हो जाता है। खेल व्यक्ति के मन को उत्साह से भर देता है। खेल से व्यक्ति में खेल भावना व दल के साथ खेलने की भावना का विकास होता है, जो जीवन मे उसके बहुत काम आती है।

जब वहीं खेल व्यक्ति अपने देश के लिए खेल रहा होता है या देख रहा होता है, तो उसमें देशप्रेम की भावना का विकास भी होता है। वर्तमान समय में दुनिया में बहुत सारे खेल खेले जाते है। जिनमें में से एक खेल हॉकी है।

हॉकी का इतिहास और उत्पत्ति:-

हॉकी सबसे प्रसिद्ध खेलों में से एक है। इसे सबसे पहले 1272 ईसा पूर्व खेला गया था। इस खेल को 600 ईसा पूर्व आयरलैंड व यूनान में बहुत बडी संख्या में खेला जाता था।

हॉकी बहुत से रूपों में खेली जाती है, जैसे:- मैदानी हॉकी, आइस हॉकी, रोलर हॉकी, सड़क हॉकी व स्लेज हॉकी। वर्तमान समय में इस खेल का सबसे प्रसिद्ध प्रारूप मैदान हॉकी व आइस हॉकी है।

आइस हॉकी मुख्य रूप से कनाडा व अमेरिका जैसे देशों में प्रसिद्ध है। जहाँ बहुत अधिक संख्या में बर्फ मौजूद होती है।

हॉकी के नियम:-

किसी भी खेल को खेलने के लिए उसके बुनियादी नियमों का पता होना बहुत आवश्यक है। तभी आप उस खेल का पूरा आनंद ले पाएंगे। इस खेल में एक समय पर 2 दलों के द्वारा खेला जाता है।

एक दल में 11 खिलाड़ी होते है। इसमें खिलाड़ियों के पास एक हॉकी स्टिक होती है। उस स्टिक की मदद से एक गेंद को दूसरी टीम के गोल पोस्ट तक मारना होता है।

इस दौरान यदि गोल पोस्ट के पास गेंद किसी टीम के खिलाड़ी के शरीर पर गेंद लग जाए तो फ़ाउल हो जाता है।

इसके बदले में विपक्षी टीम को एक शॉट खेलने का मौका मिलता है। इस खेल में एक रैफरी भी होता है, जो खेल को बारीकी से देखकर निर्णय लेता है।

हॉकी भारत का राष्ट्रीय खेल:-

हॉकी भारत का राष्ट्रीय खेल है। इसे भारत में बहुत पसंद भी किया जाता है। आजादी के समय भारत विश्वस्तर की सबसे अच्छी टीम थी।

हॉकी में भारत को ओलंपिक में पहला पदक भी मिला था। वर्तमान समय में क्रिकेट के दौर के कारण हॉकी पर लोग इतना अधिक ध्यान नहीं दे रहे है।

आज भी भारत की टीम अच्छा प्रदर्शन करती है, लेकिन क्रिकेट के मुकाबले लोग हॉकी का खेल देखने नही जाते है। इसलिए इस खेल के खिलाड़ियों को इतनी अधिक प्रसिद्धि नही मिल पाती है।

इसलिए, इस खेल के लिए उतने अधिक पैसे भी नही मिलते है और खिलाड़ियों को अपने जीवनयापन के लिए कुछ और काम भी करना पड़ता है, जिससे खिलाड़ी अपने खेल पर सही से ध्यान नहीं दे पाते है।

उपसंहार:-

हॉकी भारत का राष्ट्रीय खेल है। आज भारत के लोगों को इस खेल पर ध्यान देने की आवश्यकता है ताकि, इसके खिलाड़ियों को भी बाकी खेलों की तरह सम्मान प्राप्त हो।

सरकार को भी इस खेल पर अधिक ध्यान देना होगा। इसके खिलाड़ियों को उचित सुविधाएँ उपलब्ध करवानी चाहिए। जिससे भारत के खिलाड़ी भी बाकी देशों के खिलाड़यों की तरह अच्छी तकनीक के साथ अपने खेल का अभ्यास कर सके।

हम सभी को भी इस खेल के खिलाडियों के साथ अच्छा व्यवहार करना होगा। मैदानों पर जाकर इनका समर्थन करना होगा। ताकि, ये भी भारत के लिए पदक प्राप्त करें और भारत का नाम रोशन करें।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.