महात्मा गांधी पर निबंध

Essay on Mahatma Gandhi in Hindi

महात्मा गांधी पर निबंध : Essay on Mahatma Gandhi in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘महात्मा गांधी पर निबंध’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप महात्मा गांधी पर निबंध से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

महात्मा गांधी पर निबंध : Essay on Mahatma Gandhi in Hindi

प्रस्तावना:-

भारत में समय-समय पर बहुत से महापुरुषों का जन्म हुआ है, जिन्होंने कहीं न कहीं भारत का नाम विश्व के पटल पर ऊँचा किया है।

हम सभी जानते है कि भारत 200 वर्षों तक ब्रिटिश शासन का गुलाम रहा। भारत की आजादी में अनगिनत लोगों ने अपना योगदान दिया।

आजादी प्राप्त करने के लिए न जाने कितने ही लोगों ने अपनी जान की बाज़ी लगा दी और न जाने कितने ही लोग शहीद हो गए। इतना सब कुछ न्योंछावर करने बाद हमें यह आजादी प्राप्त हुई है।

हम सभी को इस आजादी की हमेशा ही कद्र करनी चाहिए। जब भी हम आजादी की बात करते है, तब-तब महात्मा गांधी की बात किये बिना यह बात समाप्त नही होती है।

महात्मा गांधी एक ऐसा नाम है, जिसने देश को आजाद करवाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

महात्मा गांधी का शुरूआती जीवन:-

महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर क्षेत्र में हुआ था। उनका पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था। उनके पिता का नाम करमचंद गांधी था व उनकी माता का नाम पुतलीबाई था।

पुतलीबाई करमचंद गांधी की चौथी पत्नी थी। उनकी माता बहुत ही धार्मिक महिला थी। इसका महात्मा गांधी के जीवन पर काफ़ी अधिक प्रभाव पड़ा।

उनके पिता ब्रिटिश सरकार की एक रियासत में एक मुनीम का काम करते थे। उनका परिवार वैष्णव मत को काफ़ी अधिक मानता था।

जिसका मुख्य सिद्धात अहिंसा है। इस कारण अहिंसा, शाकाहारी, उपवास व सभी धर्म व पंत को समान मानने वाले गुण उनमें बचपन से ही थे। 13 वर्ष की आयु में उनका विवाह उनसे 1 वर्ष बड़ी कस्तूरबा बाई से करवा दिया गया।

महात्मा गांधी की शिक्षा:-

महात्मा गांधी बचपन से ही पढ़ने में एक औसत विद्यार्थी थे। उन्होंने कुछ पुरुस्कार व छात्रवृत्ति भी प्राप्त की।

जब उनके पिता बीमार हुए तो उन्होंने अपने पिता की काफ़ी अधिक सेवा की और इसके साथ ही घर के कार्यों में अपनी माँ का हाथ बँटाना उन्हें बहुत पसंद था।

सन 1887 में उन्होंने मुंबई यूनिवर्सिटी से मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की और भावनगर आकर सामलदास कॉलेज में दाखिल ले लिया।

वहाँ से वह सितंबर 1888 में बैरिस्टर बनने के लिए लंदन चले गए। 10 दिन वहाँ रहने के बाद उन्होंने वहाँ के इनर टेंपल नामक कॉलेज में दाखिला ले लिया।

महात्मा गाँधी के द्वारा किये गए प्रमुख आंदोलन:-

भारत को आजाद करवाने में महात्मा गाँधी का एक बहुत बड़ा योगदान माना जाता है। वह नरम दल के नेता थे। उनके सभी आंदोलन अहिंसक थे।

उन्होंने भारत आते ही बहुत से आंदोलन किए, जिनमें चम्पारण सत्याग्रह 1917, खेड़ा सत्याग्रह 1918, अहमदाबाद मिल मजदूर आंदोलन 1918, खिलाफत आन्दोलन 1919, असहयोग आंदोलन 1920, सविनय अवज्ञा आंदोलन 1930 और भारत छोड़ो आंदोलन 1942 प्रमुख थे।

उनके द्वारा किए गए इन आंदोलनों ने भारत के लोगों को इकठ्ठा कर दिया था, जिससे भारत को आजादी मिली।

उपसंहार:-

जब-जब भारत की आजादी की बात की जाएगी, तब-तब महात्मा गांधी का नाम अवश्य याद किया जाएगा। 30 जनवरी 1950 को नाथूराम गोडसे द्वारा गोली मारकर हत्या कर दी गई।

उनके आख़िरी शब्द राम राम राम थे। उन्हें भारत में हमेशा याद रखा जाएगा। उन्हें भारत के राष्ट्रीय पिता की उपाधि दी गई है।

उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन अहिंसा व सत्य में लगा दिया। उनके सम्मान में आज भारत की मुद्रा पर उनकी तस्वीर आती है।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.