स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध

Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध : Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

स्वच्छ भारत अभियान पर निबंध : Essay on Swachh Bharat Abhiyan in Hindi

प्रस्तावना:-

स्वच्छ भारत अभियान भारत को साफ-सुथरा बनाने के लिए चलाया गया एक अभियान है, जो भारत के प्रधानमंत्री द्वारा महात्मा गांधी जी के 145वें जन्मदिवस के अवसर पर चलाया गया था।

इस अभियान का लक्ष्य महत्मा गांधी जी का स्वप्न ‘स्वच्छ भारत’ को पूरा करना था। इसमें भारत को स्वच्छ बनाने के लिए कईं प्रकार के प्रयास किये गए।

स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य:-

इस अभियान का उद्देश्य भारत को एक स्वच्छ देश बनाना है। इस अभियान के अंतर्गत भारत के प्रत्येक गाँव व शहर को स्वच्छ बनाना है। जिसके तहत प्रत्येक घर में शौचालय की व्यवस्था करना भी शामिल है।

इसका लक्ष्य 5 वर्ष बाद महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर भारत को एक स्वच्छ देश की सूची में लाना है। इसमें गाँवों में खुले शौच को ख़त्म करना है। आज भारत के गली-नुक्क्ड़ पर हर जगह गंदगी ही रहती है।

लोग अपने घरों का कचरा भी सड़कों पर ही फेंक देते है, जिससे वहाँ गंदगी-गंदगी हो जाती है और फलस्वरूप इससे कईं तरह की बीमारियाँ भी होती है। इन समस्याओं को दूर करने के लिए ही भारत सरकार द्वारा स्वच्छ भारत योजना को लाया गया।

स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत कब व कैसे हुई?:-

महात्मा गांधी जी के जन्मदिन 2 अक्टूबर 2014 के दिन भारत के प्रधानमंत्री ने भारत को एक स्वच्छ देश बनाने के लिए इस योजना की शुरुआत की। इस अभियान को ‘भारत मिशन’ व ‘स्वछता अभियान’ भी कहा गया था।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजपथ पर बहुत बड़े जनसमूह को संबोधित किया और उसमें लोगों से अधिक से अधिक जुड़कर इस अभियान को सफल बनाने की अपील की।

जिसके बाद बहुत बड़ी संख्या में लोगों ने इस अभियान में भाग लिया और प्रधानमंत्री के साथ इस योजना को सफल बनाने में अपना योगदान दिया।

स्वच्छ भारत अभियान:-

स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत भारत के शहरी क्षेत्रों में 1 करोड़ से भी अधिक शौचालयों का निर्माण किया गया व गाँवों के खुले शौच को रोकने के लिए 11 करोड़ 11 लाख शौचालयों का निर्माण किया गया।

इसके आलावा सार्वजनिक जगहों पर भी शोचलयों का निर्माण किया गया, ताकि गाँवों को स्वच्छ बनाया जा सके।

शहरी इलाकों में कचरे की समस्या को दूर करने के लिए कचरे की गाड़ियाँ लगवाई गई, ताकि जगह-जगह कचरे की समस्या को दूर किया जा सके। गाँवों में भी स्वछता बनाने के लिए सुविधा को लगातार उपलब्ध करवाया जा रहा है।

इसके तहत लोगों को भी स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया है। जिसमें लोगों को खुले में शौच को रोकना और कचरे को कहीं पर फेंकने से रोकना है। इस अभियान से आज कुछ हद तक स्वच्छ भारत का सपना पूरा हुआ है।

उपसंहार:-

आज इस अभियान में भारत ने स्वच्छता की तरफ अपने कदम तो बढ़ा लिए है, लेकिन अभी भी स्वच्छता का लक्ष्य काफी दूर है।

इसके लिए हमारे प्रयास अभी भी काफी नहीं है। किसी एक इंसान के करने से यह भारत स्वच्छ नहीं बनेगा, बल्कि हम सभी को मिलकर इसमें अपना योगदान देना होगा।

जैसे हम अपने घर की सफाई करते है, ठीक उसी प्रकार हमें अपने आसपास में भी स्वच्छता बनानी चाहिए और अपने घर के कचरे को कूड़ेदान या कचरे की गाड़ी में ही डालना चाहिए।

जितना हो सके, हमें पेड़-पौधें लगाने चाहिए और उनका संरक्षण भी करना चाहिए। हमारे यहीं छोटे-छोटे योगदान ही भारत के स्वच्छ होने का सपना पूरा कर पाएंगे। इसलिए, हमें स्वयं भी जागरूक होना होगा और दूसरों को भी जागरूक करना होगा।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *