सेवानिवृत्ति पर विदाई भाषण

Farewell Speech on Retirement in Hindi

सेवानिवृत्ति पर विदाई भाषण : Farewell Speech on Retirement in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘सेवानिवृत्ति पर विदाई भाषण’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप सेवानिवृत्ति पर विदाई भाषण से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

सेवानिवृत्ति पर विदाई भाषण : Farewell Speech on Retirement in Hindi

आदरणीय प्रधानाचार्य महोदय, विद्यालय के सभी कर्मचारी, मेरे साथियों व प्यारे बच्चों, आज हम सभी यहाँ पर इसलिए एकत्रित हुए है क्योंकि, आज इस विद्यालय में मेरा आख़िरी दिन है।

आज मैं अध्यापक के पद से सेवानिवृत्त हो रहा हूँ। आज आप सभी ने मिलकर इस छोटे से कार्यक्रम का आयोजन किया है।

मुझे इस पद पर पूरे 30 वर्ष हो गए है और इस विद्यालय में 10 वर्ष पूरे होने वाले है। मैं विज्ञान विषय का अध्यापक हूँ।

मैंने अपने पूरे कार्यकाल में बहुत से बच्चों को शिक्षा प्रदान की है। मैंने अपने इतने बड़े कार्यकाल में इस विद्यालय के साथ कभी न खत्म होने वाला संबंध स्थापित कर लिया है।

इस विद्यालय के प्रधानाचार्य जी का मैं बहुत शुक्रिया अदा करता हूँ, जिन्होंने हर मुश्किल परिस्थिति में मेरा सहयोग किया है।

उन्होंने विद्यालय के हर छोटे व बड़े फैसले में मेरा मत भी लिया और मेरा हमेशा पूरा आदर किया। उन्होंने मुझे हर काम में मदद की।

मुझे पूरी छूट दी कि मैं बच्चों को किस तरह शिक्षित करूँ। मैं इस मंच से उनकों तह दिल से धन्यवाद देना चाहता हूँ।

मेरे सभी साथी अध्यापकों ने मेरा हमेशा से ही सहयोग किया है। सभी अध्यापक बहुत ही बुद्धिमान है। एक शिक्षक अपने पूरे जीवनकाल में बहुत से विद्यार्थियों को शिक्षित करता है।

वे विधार्थी भविष्य में बहुत बड़े-बड़े काम करते है और अपना नाम पूरे विश्व में रौशन करते है। जिससे एक शिक्षक को बहुत खुशी होती है।

शिक्षक का काम एक बच्चे को एक छोटे से अक्षर ज्ञान से लेकर उसे बड़ी-बड़ी ख़ोज करने के लिए उसे तैयार करना है।

एक शिक्षक का काम देश की नींव को मजबूत करना है, जिससे देश विकसित हो सके। मुझे इस पद से जुड़कर बहुत अच्छा लगा।

मुझे यह देखकर बहुत खुशी होती है कि मेरे द्वारा शिक्षित किए गए बच्चे आज अपने करियर में बहुत अच्छा कर रहे है। अपने माता-पिता के साथ-साथ अपने शिक्षको का नाम भी रोशन कर रहे है।

शिक्षक बच्चों के लिए एक दीपक के समान होता है, जो उन्हे अंधकार से प्रकाश तक ले जाता है। शिक्षक के लिए बड़े गर्व की बात होती है, जब उसका विद्यार्थी अपने जीवन में कुछ अच्छा करें।

आप सभी बच्चों से मुझे हमेशा ही सम्मान मिला। आपने मेरे द्वारा दी गई शिक्षा को ग्रहण किया और मेरे दिखाए गए मार्गदर्शन पर चले व मुझ पर विश्वास किया इसी कारण से ही मैं आपको एक सही मार्गदर्शन दे पाया।

एक शिक्षक का कर्तव्य होता है कि वह विद्यार्थी को सही रास्ता दिखाए और उसे गलत रास्ते पर जाने से रोके। यदि कोई विद्यार्थी गलत राह पर जाए तो उन्हें गलत राह से सही राह पर लाए।

इसके लिए उसे कईं बार सख्त भी होना पड़ता है। मैंने कईं बार सख्ती बरती, जिससे बच्चों को गलत राह पर जाने से रोका।

मुझे यह सख्ती करना ज्यादा पसंद नही है। लेकिन, फिर भी कईं बार यह जरूरी होती है। कईं बार बच्चों को एक मिट्टी के बर्तन के तरह तपाना भी पड़ता है।

मैं आप सभी के साथ-साथ विद्यालय के सारे स्टाफ को भी शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ, जिन्होंने मुझे इस राह पर काफी मदद की।

आज मैं आप सभी का शुक्रिया अदा करना चाहता हूँ कि आप सभी ने मेरे लिए इस छोटे से समारोह का आयोजन किया। आप सभी के भाषण में अपनी इतनी तारीफ सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगा।

हम सभी जानते है कि हर इंसान को आगे बढ़ने के लिए पीछे की चीजों को छोड़ना पड़ता है। इसलिए, आज मेरा कार्यकाल इस विद्यालय के लिए समाप्त होता है।

आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद!

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.