प्राकृतिक संसाधन पर भाषण

Natural Resources Speech in Hindi

प्राकृतिक संसाधन पर भाषण : Natural Resources Speech in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘प्राकृतिक संसाधन पर भाषण’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप प्राकृतिक संसाधन पर भाषण से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

प्राकृतिक संसाधन पर भाषण : Natural Resources Speech in Hindi

नमस्कार, आदरणीय प्रधानाचार्य जी, सभी शिक्षकगण, और सभी साथियों को मेरा प्यारभरा नमस्कार। मेरा नाम —- है और मैं इस विद्यालय में 11वीं कक्षा का विद्यार्थी हूँ।

मैं आप सभी को तहदिल से धन्यवाद देना चाहता हूँ कि आप सभी ने मुझे इस अवसर पर भाषण प्रस्तुत का अवसर प्रदान किया।

आज मैं आप सभी के सामने प्राकृतिक संसाधन पर भाषण प्रस्तुत करने जा रहा हूँ। हमारी पृथ्वी सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड में एकमात्र ऐसा ग्रह है, जहाँ पर जीवन मौजूद है।

इसका मुख्य कारण है कि पृथ्वी का सूरज से एक निश्चित दूरी पर मौजूद होना। जहाँ न तो ज्यादा ठण्ड होती है और न ही ज्यादा गर्मी।

जीवन की उत्पत्ति के लिए एक आदर्श जगह, पृथ्वी पर जीवन बहुत से रूपों में रहता है। सभी जीवों के जीवन जीने के लिए आवश्यक सामग्री हमारी पृथ्वी पर उपलब्ध है।

पृथ्वी पर सभी जीवों के लिए आवश्यक प्राकृतिक संसाधन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है।

प्रकृति द्वारा प्राप्त संसाधन जो मानव निर्मित नहीं होते, जो प्रकृति द्वारा मनुष्य को नि:शुल्क मिलते है, ये सभी प्राकृतिक संसाधन कहलाते है। जैसे:- हवा, पानी, वृक्ष, कोयला, इत्यादि।

ये दो प्रकार के होते है, पहला:- अजैविक व दूसरा:- जैविक। जो गैर-कार्बनिक पदार्थों से बनते है, वो अजैविक और जो जीवित प्राणियों से बनते है, वो जैविक कहलाते है।

ये संसाधन इस प्रकृति का मनुष्य को एक अनमोल उपहार है। आज इन्हीं संसाधनों को मनुष्य ने अपने थोड़े से लाभ के लिए या तो ख़राब कर दिया है या इसे पूरी तरह से नष्ट कर दिया है।

आज जनसंख्या वृद्धि के कारण लोग अपने घर बनाने के लिए कृषि योग्य जमीन को लगातार नष्ट कर रहे है और जंगलों को पूरी तरह से समाप्त कर रहे है।

आज ज्यादातर नदियाँ प्रदूषित हो गई है। शहरों में स्वच्छ जल मिल पाना अब काफी मुश्किल लगता है। हवा लगातार प्रदूषित होती जा रही है। हवा में खतरनाक पदार्थ मिलने से वह जहरीली होती जा रही है।

इसी के साथ-साथ मनुष्य अपने जीवनयापन के लिए लगातार पृथ्वी से कोयला, पेट्रोल जैसे जीवाश्म निकाल रहा है, जिसे बनने में लाखों वर्षों का समय लगता है और ये सिर्फ एक बार ही उपयोग में लिए जा सकते है।

इन सभी के कारण ही आज सभी प्रकार के प्राकृतिक संसाधन प्रदूषित हो गए है या समाप्त होने लगे है, जो कि काफी चिंता का विषय है।

इस स्थिति को देखते हुए हमें इस विषय पर और अधिक ध्यान देने की आवश्यकता है। आज के समय में लगातार ऊर्जा की जरुरत होती है।

इस ऊर्जा की कमी को पूरा करने के लिए लगातार प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग किया जा रहा है। हमें इसे रोकना होगा या काफी हद तक कम करना होगा।

इसके लिए ऊर्जा के नवीनीकरण स्रोतों का निर्माण करना होगा और उन्हें बढ़ाना होगा। हमें जल के रखरखाव पर ध्यान देना होगा व कारखानों को नदियों व तालाबों से निश्चित दूरी पर स्थापित करना होगा।

पेड़ों की कटाई पर रोक लगानी होगी व वृक्षारोपण को बढ़ावा देना होगा। वाहनों के लिए ऊर्जा में बिजली के उपयोग को बढ़ावा देना होगा।

इन तरीकों से हम काफी हद तक प्राकृतिक संसाधनों को बचा सकते है। यदि हमने इस तरफ ध्यान नहीं दिया, तो हम प्राकृति की इतनी अनमोल धरोहरों को खो देंगे।

इनमें से कईं संसाधनों के खत्म होने पर मनुष्य जीवन भी समाप्त हो जाएगा। इसलिए इसके लिए हमें जल्दी ही उचित कदम उठाने होंगे।

ताकि, हम अपनी आने वाली पीढ़ी को भी इन प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग के फायदा उठाने दे। इन सभी बातो के साथ मैं अपना भाषण ख़त्म करने जा रहा हूँ।

अतः मुझे आशा है कि आपको मेरा यह भाषण पसंद आया होगा। मुझे पूरा सुनने के लिए आप सभी का धन्यवाद।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.