महिला शिक्षा पर निबंध

Essay on Women Education in Hindi

महिला शिक्षा पर निबंध : Essay on Women Education in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘महिला शिक्षा पर निबंध’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप महिला शिक्षा पर निबंध से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

महिला शिक्षा पर निबंध : Essay on Women Education in Hindi

प्रस्तावना:-

महिलाएं इस समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होती है। लेकिन, फिर भी उन्हें वह महत्व नहीं दिया जा रहा है जिसकी वह हकदार है।

इस आधुनिक युग व बदलते समय में शिक्षा प्रत्येक व्यक्ति के लिए आवश्यक हो गई है, चाहे वह स्त्री हो अथवा पुरुष। दोनों को शिक्षा की बराबर ही आवश्यकता होती है।

लेकिन, इस आधुनिक युग में आज भी कईं जगहों पर स्त्रियों को तुच्छ समझा जाता है और उन्हें शिक्षा के लायक नहीं समझा जाता है।

उन्हें घर की चारदीवारी में रखकर घर के काम करवाना ही सही समझा जाता है। आज भी भारत के कईं समाज ऐसे है, जो लड़कियों को लड़कों के समान नहीं समझते है। उनके जीवन का फैसला आज भी पुरुष ही लेते है।

समाज में इतना बदलाव होने के बावजूद भी कईं जगह महिलाओं को उनके अधिकार नहीं दिए जाते है और इस कारण उनके साथ कईं प्रकार के अत्याचार होते है। जैसे:- घरेलु हिंसा, दहेज़ के लिए प्रताड़ना, इत्यादि।

महिला शिक्षा की आवश्यकता:-

महिला की शिक्षा काफी महत्वपूर्ण होती है। महिलाओं की शिक्षा अपने परिवार व समाज को ही नहीं बल्कि पूरे देश को उन्नति की राह पर ले जाएगी।

पुरुषों के मुकाबले स्त्रियाँ शिक्षा का अधिक प्रसार करती है। महिलाओं के शिक्षित होने से उनके साथ हो रहे कईं अत्याचार समाप्त हो जाते है व वह बिना डरे अपने अत्याचार के प्रति आवाज उठा सकती है।

शिक्षा से महिलाएं आत्मनिर्भर बनती है। शिक्षा के द्वारा वह अपने साथ-साथ अपने परिवार के जीवनयापन में भी सहायता कर सकती है।

अशिक्षा महिलाओं को पीछे की तरफ धकेलती है। अशिक्षित महिलाएं रूढ़िवादी परम्पराओ में ही फंसकर रह जाती है और अपना जीवन उस अंधकार में ही बिता देती है।

इस अंधकार से निकलने के लिए ही महिलाओं को शिक्षा की आवश्यकता है। इससे वह इन रूढ़िवादी परम्पराओं से बाहर निकलकर शिक्षा की रोशनी में अपना जीवन जी पाएगी और विकास की तरफ बढ़ेगी।

महिला शिक्षा के विरुद्ध विचार:-

समाज में कईं लोग आज भी महिला शिक्षा के विरोधी है। वें आज भी सोचते है कि महिलाए शिक्षा प्राप्त करने के लिए नहीं बल्कि घर पर रहकर बच्चे पालने के लिए ही होती है।

उनका मत है कि महिलाओं के शिक्षित होने से इस समाज पर बुरा प्रभाव पड़ता है। उनका कहना है कि यहीं महिलाएं शिक्षित होंगी, तो वें अपने परिवार पर ध्यान नहीं दे पाएगी और गलत रास्ते पर जाएगी।

उन्हें महिलाओं के घर से बाहर निकलने पर आपत्ति होती है और वें सोचते है कि यहीं महिलाएं बाहर जाएगी व शिक्षा प्राप्त करेगी तो उनके साथ गलत होने की संभावना ज्यादा होती है। शिक्षित महिलाएं अपने पति का सम्मान नही करती है।

महिला शिक्षा के लाभ:-

  • महिलाओं के शिक्षित होने से इस देश व समाज का विकास होता है।
  • शिक्षित महिलाएं इस समाज में अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होती है। जिससे वह अपने साथ होने वाले किसी भी प्रकार के अत्याचार को सहन नहीं करती है।
  • वह स्वतंत्रतापूर्वक अपना जीवनयापन कर सकती है और अपने जीवन के सभी महत्वपूर्ण फैसले भी ले सकती है।
  • महिलाओं की शिक्षा से दहेज़-प्रथा जैसी कुरुतियां समाप्त हो जाएगी और भ्रूण-हत्या भी कम हो जाएगी।
  • शिक्षित महिलाएं स्वयं का व्यवसाय भी आरम्भ कर सकती है और देश की उन्नति में अपना योगदान दे सकती है।

उपसंहार:-

देश के विकास के साथ-साथ महिलाओं का भी काफी विकास हुआ है। वें भी पुरुषों के समान आत्मनिर्भर बन गई है। उन्होंने हर जगह पुरुषों को कड़ी टक्कर दी है।

इस देश के विकास में महिलाओं ने भी पुरुषों के बराबर ही अपना योगदान दिया है। शिक्षा से महिलाओं का स्तर काफी बढ़ गया है और उन्हें समाज में भी सम्मान मिल रहा है।

हमें यदि इस देश को विकसित देशों में सम्मलित करना है, तो इस देश की प्रत्येक महिला को शिक्षित होना होगा। तभी उनकी स्थिति पूरी रूप से इस समाज में सुधर पाएगी।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *