राष्ट्रीय एकीकरण पर निबंध

Essay on National Integration in Hindi

राष्ट्रीय एकीकरण पर निबंध : Essay on National Integration in Hindi:- आज के इस लेख में हमनें ‘राष्ट्रीय एकीकरण पर निबंध’ से सम्बंधित जानकारी प्रदान की है।

यदि आप राष्ट्रीय एकीकरण पर निबंध से सम्बंधित जानकारी खोज रहे है? तो इस लेख को शुरुआत से अंत तक अवश्य पढ़े। तो चलिए शुरू करते है:-

राष्ट्रीय एकीकरण पर निबंध : Essay on National Integration in Hindi

प्रस्तावना:-

एकीकरण का अर्थ एकता से है। राष्ट्रीय एकीकरण का तात्पर्य देश में एकता से है। किसी भी देश में एकता का होना काफी आवश्यक होता है। भारत में राष्ट्रीय एकता ही उसकी पहचान है।

भारत में कईं धर्म, जाति व संस्कृति के लोग एक साथ मिलकर रह रहे है। इतनी असमानताएँ और विभिन्नताएं होने के बावजूद भी भारत में सभी लोग शांति के साथ रहते है।

यहीं एकजुटता ही भारत को सभी से अलग और मजबूत बनाती है। भारत की विभिन्नता ही उसे शेष अन्य देशों से विशेष बनाती है।

राष्ट्रीय एकता का महत्व:-

किसी भी देश में एकता का होना अत्यंत आवश्यक है। राष्ट्रीय एकता एक देश को ताकतवर व मजबूत बनाती है। यह एक देश को जोड़ने का कार्य करती है और लोगों के बीच में असमानताओं को कम करती है।

इससे लोगों में प्रेमभाव बढ़ता है और सदैव शांति बनी रहती है। इससे देश मजबूत होता है। एकीकरण देश के लोगों को करीब लाता है।

जिस देश में एकीकरण होता है, वह देश कभी भी आसानी से टूटता नहीं है। वह किसी भी कठीन परिस्थितियों में भी डटकर खड़ा रहता है। एकता का एक देश में काफी महत्व होता है।

राष्ट्रीय एकता को प्रभावित करने वाले घटक:-

राष्ट्रीय एकता किसी भी देश को अन्य देशों से मजबूत बनाती है। लेकिन, कईं लोग इस एकता को पसंद नहीं करते है और लोगों को जाति व धर्म के नाम पर लड़वाते है।

वें यह सब कुछ अपने छोटे से फायदे को पूरा करने के लिए करते है। सांप्रदायिकता और धार्मिकता के लिए कईं बार दंगे-फसाद करवाए जाते है।

धर्म सबसे ज्यादा एकता को तोड़ने का कार्य करते है। प्रत्येक व्यक्ति अपने धर्म को ऊँचा दिखाना चाहता है, जिस कारण कभी-कभी समस्याएँ भी पैदा हो जाती है।

आज सरकार भी अपने फायदे के लिए या वोट प्राप्त करने के लिए धर्म व जाति के नाम पर राजनीति करती है, जिससे लोगों के बीच में दूरियां पैदा होती है। सरकार लोगों को सिर्फ एक वोट के रूप में ही देखती है।

राष्ट्रीय एकता दिवस:-

प्रत्येक वर्ष 31 अक्टूबर को भारत में राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है। इस दिन सरदार वल्लभभाई पटेल के जन्मदिन के अवसर पर राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है।

सरदार वल्लभभाई पटेल भारत के पहले गृहमंत्री थे। उन्होंने सम्पूर्ण भारत को एकीकृत करने के लिए काफी मेहनत की। सन 2014 में पहली बार उनके जन्मदिवस को राष्ट्रीय एकता दिवस के रूप में मनाया गया था।

सरदार वल्लभभाई पटेल ने भारत की अलग-अलग रियासतों को एक साथ लाकर भारत को एक मजबूत देश बनाया। आज भारत एकता के साथ खड़ा है, तो उसमें उनका बहुत बड़ा योगदान है।

उपसंहार:-

एकता एक ऐसे धागे की तरह होती है, जो सभी को एक साथ बांधकर रखती है। यह हमेशा ही लोगों में प्रेमभाव पैदा करती है।

जिस देश में एकता होती है, उसमें समस्याएँ भी कम होती है। इसलिए, हमें इसके महत्व को समझना चाहिए और दूसरों को भी समझाना चाहिए।

भारत की इस एकता ने ही उसे आज इस दुनिया में इतनी अलग पहचान दी है। देश के लोगों की एकता ही इस देश को मजबूत बनाती है, इसलिए हम सभी को हमेशा देश की एकता को ऐसे ही बनाए रखने का प्रयास करना चाहिए।

अंतिम शब्द

अंत में आशा करता हूँ कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको हमारे द्वारा इस लेख में प्रदान की गई अमूल्य जानकारी फायदेमंद साबित हुई होगी।

अगर इस लेख के द्वारा आपको किसी भी प्रकार की जानकारी पसंद आई हो तो, इस लेख को अपने मित्रों व परिजनों के साथ फेसबुक पर साझा अवश्य करें और हमारे वेबसाइट को सबस्क्राइब कर ले।

5/5 - (1 vote)

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *